• +(91) 7000106621
  • astrolok.vedic@gmail.com

Learn what’s best for you

Learn Jyotish

वक्री शनि के विभिन्न राशियों पर प्रभाव

*30 अप्रैल19 को शनि होंगे वक्री*

30 अप्रेल मंगलवार को शनि धनु राशि में वक्री हो जायेगे और 18 सितंबर 2019 तक वक्री रहेंगे। शनि 4 माह 18 दिन तक वक्री रहेंगे। इसी के साथ गुरुदेव बृहस्पति भी वक्री गति से धनु राशि मे गोचर कर रहे है। 22 अप्रेल को गुरुदेव वृश्चिक राशि मे पुनः पहुच जाएंगे। और 11 अगस्त को मार्गीय होकर 4 नवम्बर को वापिस धनु राशि मे प्रवेश करेंगे।

अशुभ ग्रह शनि के वक्री होने पर इसकी क्रूरता बढ़ेगी क्योकि जब क्रूर ग्रह वक्री होता है तो उसकी क्रूरता बढ़ती है और जब शुभ ग्रह वक्री होता है तो उसकी शुभता बढ़ती है। यदि आपकी कुंडली मे शनि योगकारक ग्रह है तो वह अच्छे फल देगा। शनि के वक्री होने से कोई नुकसान नही होगा। 
 शनि कर्मफल दाता होने के कारण वह किये गए कर्मो का फल देता है।
 शनि के वक्री होने पर चंद्र राशि के अनुसार विभिन्न राशियों पर अलग अलग प्रभाव पड़ेगा।

*मेष राशि*
मेष राशि के जातको का शनि 9वे भाव मे होगा। जिससे कैरियर व आय में परेशानी आ सकती है। शत्रु आप पर हावी होंगे। प्रमोशन में समस्याए आ सकती है।

*वृषभ राशि*
शनि 8 वे भाव मे होने के कारण धन हानि हो सकती है, व्यापार में नुकसान हो सकता है। संतान पढ़ाई पर धयान दे।

*मिथुन राशि*
शनि 7 वे भाव मे होने के कारण इन राशि वालो को धन लाभ होगा। व्यापार व नोकरी में लाभ होगा। प्रियजनों व मित्रों से संबंध अच्छे रहेंगे। विवाद सुलझेगे।

*कर्क राशि*
शनि 6 वे भाव मे गोचर करेगा। आपके स्वास्थ्य की हानि हो सकती है। मानसिक तनाव बढ़ सकता है। क्रोधित न हो सयम से काम लें। मित्रो के साथ अपनी समस्याएं सांझा करें।

*सिंह राशि*
शनि 5 वे भाव मे होने के कारण वक्री होने पर आपके खर्चे बढ़ेंगे, व्यापार अच्छा रहेगा। नोकरी मिलने की संभावना है । नए व्यवसाय में लाभ होगा। अविवाहित जातक विवाह का प्लान कर सकते है। संतान का योग बन सकता है।

*कन्या राशि*
शनि 4 थे भाव मे होने के कारण शनि की ढय्या चल रही है। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। प्रॉपर्टी के मामले में विवाद हो सकता है। आप अधिक व्यस्त रहेंगे।

*तुला राशि*
शनि 3 रे भाव मे होने के कारण शिक्षा अच्छी होगी आत्मविश्वाश बढेगा। उच्च शिक्षा के योग बनेंगे। आमदनी अच्छी होगी और खर्चे भी अधिक होंगे।

*वृश्चिक राशि*
शनि की साढ़े साती चल रही है। आपको सफलता पाने के लिए कड़ा परिश्रम करना होगा। किसी विवाद में न पड़े। कार्यो में रुकावटे आ सकती है। कानूनी कार्यो में सफलता मिलेगी।

*धनु राशि*
साढ़े साती होने के कारण  दाम्पत्य जीवन मे समस्याए आ सकती है। स्वास्थ्य में परेशानियां आ सकती है। खर्चो में वृद्धि होगी गुप्त शत्रुओ से बचे। अनावश्यक यात्राएं न करे।

*मकर राशि*
साढे साती होने के कारण खर्चो में वृद्धि होगी। नोकरी और व्यवसाय में वृद्धि होगी। उच्च शिक्षा के लिए विदेश जा सकते है। जमीन जायदाद से धन लाभ होगा। यात्राएं अधिक होंगी।

*कुम्भ राशि*
आपका स्वास्थ्य अच्छा रहेगा, धन लाभ होगा। विश्वाश में कमी आएगी। कुछ नए कार्य होंगे। आध्यात्मिकता की और झुकाव बढेगा। आर्थिक परेशानियों से छुटकारा मिलेगा। नए वाहन खरीदने के योग बनेंगे।

*मीन राशि*
शनि 10 वे भाव मे होने के कारण वक्री होने पर विदेश यात्राएं   होंगी, दाम्पत्य जीवन अच्छा रहेगा। नोकरी में परिवर्तन होगा। धार्मिक कार्यो में वृद्धि होगी।
ज्योतिषाचार्य सुनील चोपड़ा
Mob. 9302325222
read more

Daily Panchang for 19th April 2019

🌞 ~ आज का हिन्दू पंचांग ~ 🌞

⛅ दिनांक 19 अप्रैल 2019
⛅ दिन - शुक्रवार 
⛅ *विक्रम संवत - 2076 
⛅ शक संवत -1941
⛅ अयन - उत्तरायण
⛅ ऋतु - वसंत
⛅ मास - चैत्र
⛅ पक्ष - शुक्ल 
⛅ तिथि - पूर्णिमा दोपहर 04:42 तक तत्पश्चात प्रतिपदा
⛅ नक्षत्र - चित्रा शाम 07:30 तकतत्पश्चात स्वाती
⛅ योग - हर्षण सुबह 11:34 तक तत्पश्चात वज्र
⛅ राहुकाल - सुबह 10:51 से दोपहर 12:26 तक 
⛅ सूर्योदय - 06:19
⛅ सूर्यास्त - 18:57 
⛅ दिशाशूल - पश्चिम दिशा में
⛅ व्रत पर्व विवरण - चैत्र पूर्णिमा, श्री हनुमान जयंती, वैशाख स्नानारम्भ, छत्रपति शिवाजी पुण्यतिथि

               🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞

🌷 हनुमान जयंती 🌷
🙏🏻 जीवन में उतार-चढ़ाव आते रहते हैं। कभी कोई विरोधी परेशान करता है तो कभी घर के किसी सदस्य को बीमारी घेर लेती है। इनके अलावा भी जीवन में परेशानियों का आना-जाना लगा ही रहता है। ऐसे में हनुमानजी की आराधना करना ही सबसे श्रेष्ठ है। इस बार 19 अप्रैल, शुक्रवार को हनुमान जयंती है। हनुमानजी की कृपा पाने का यह बहुत ही उचित अवसर है। यदि आप चाहते हैं कि आपके जीवन में कोई संकट न आए तो नीचे लिखे मंत्र का जप हनुमान जयंती के दिन करें। प्रति मंगलवार या शनिवार को भी इस मंत्र का जप कर सकते हैं।
🌷 मंत्र
ऊँ नमो हनुमते रूद्रावताराय सर्वशत्रुसंहारणाय सर्वरोग हराय सर्ववशीकरणाय रामदूताय स्वाहा
🙏🏻 जप विधि
👉🏻 - सुबह जल्दी उठकर सर्वप्रथम स्नान आदि नित्य कर्म से निवृत्त होकर साफ  वस्त्र पहनें।
👉🏻 - इसके बाद अपने माता-पिता, गुरु, इष्ट व कुल देवता को नमन कर कुश का आसन ग्रहण करें।
👉🏻 - पारद हनुमान प्रतिमा के सामने इस मंत्र का जप करेंगे तो विशेष फल मिलता है।
👉🏻 - जप के लिए लाल मूँगे की माला का प्रयोग करें।
          🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞

🌷 वैशाख मास स्नान आरंभ 🌷
🙏🏻 चैत्र शुक्ल पूर्णिमा से वैशाख मास स्नान आरंभ हो जाता है। यह स्नान पूरे वैशाख मास तक चलता है। इस बार वैशाख मास स्नान 19 अप्रैल, शुक्रवार से प्रारंभ हो रहा है।

🙏🏻 स्कंदपुराण में वैशाख मास को सभी मासों में उत्तम बताया गया है। पुराणों में कहा गया है कि वैशाख मास में सूर्योदय से पहले जो व्यक्ति स्नान करता है तथा व्रत रखता है, वह भगवान विष्णु का कृपापात्र होता है। स्कंदपुराण में उल्लेख है कि महीरथ नामक राजा ने केवल वैशाख स्नान से ही वैकुण्ठधाम प्राप्त किया था। इसमें व्रती को प्रतिदिन प्रात:काल सूर्योदय से पूर्व किसी तीर्थस्थान, सरोवर, नदी या कुएं पर जाकर अथवा घर पर ही स्नान करना चाहिए। स्नान करने के बाद सूर्योदय के समय अर्ध्र्य देते समय नीचे लिखा मंत्र बोलना चाहिए-
🌷 वैशाखे मेषगे भानौ प्रात: स्नानपरायण:।
अध्र्यं तेहं प्रदास्यामि गृहाण मधुसूदन।।
🙏🏻 वैशाख व्रत महात्म्य की कथा सुनना चाहिए तथा ऊँ नमो भगवते वासुदेवाय मंत्र का यथासंभव जप करना चाहिए। व्रती को एक समय भोजन करना चाहिए। वैशाख मास में जलदान का विशेष महत्व है। इस मास में प्याऊ की स्थापना करवानी चाहिए। पंखा, खरबूजा एवं अन्य फल, नवीन अन्न आदि का दान करना चाहिए।
🙏🏻 स्कंदपुराण के अनुसार इस मास में तेल लगाना, दिन में सोना, कांसे के बर्तन में भोजन करना, दो बार भोजन करना, रात में खाना आदि वर्जित माना गया है। वैशाख मास के देवता भगवान मधुसूदन हैं।

📖 *आचार्य अरूणा दाधीच  जन्मपत्री विशेषज्ञ जयपुर 9983974145
          🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞
🙏🏻🌷💐🌸🌼🌹🍀🌺💐🙏🏻
read more

Daily Panchang for 18th April 2019

🌞 ~ आज का हिन्दू पंचांग ~ 🌞

⛅ दिनांक 18 अप्रैल 2019
⛅ दिन - गुरुवार 
⛅ *विक्रम संवत - 2076 
⛅ शक संवत -1941
⛅ अयन - उत्तरायण
⛅ ऋतु - वसंत
⛅ मास - चैत्र
⛅ पक्ष - शुक्ल 
⛅ तिथि - चतुर्दशी रात्रि 07:26 तक तत्पश्चात पूर्णिमा
⛅ नक्षत्र - हस्त रात्रि 09:26 तकतत्पश्चात हर्षण
⛅ योग - व्याघात दोपहर 02:58 तक तत्पश्चात चित्रा
⛅ राहुकाल - दोपहर 02:01 से शाम 03:36 तक 
⛅ सूर्योदय - 06:19
⛅ सूर्यास्त - 18:57 
⛅ दिशाशूल - दक्षिण दिशा में
⛅ व्रत पर्व विवरण - व्रत पूर्णिमा, हाटकेश्वर जयंती, शिवदमनोत्सव

               🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞

🌷 हनुमान जयंती 🌷
🙏🏻  चैत्र मास की पूर्णिमा को हनुमान जयंती पर्व मनाया जाता है। इस बार ये पर्व 19 अप्रैल गुरुवार को है।  हनुमानजी के शुभ योग में यदि कुछ विशेष उपाय किए जाएं तो आपकी हर परेशानी दूर हो सकती है। ये उपाय इस प्रकार हैं-
 🌷 ऐसे चढाएं हनुमानजी को चोला 🌷
हनुमान जयंती (19 अप्रैल, गुरुवार) को हनुमानजी को चोला चढ़ाएं। हनुमानजी को चोला चढ़ाने से पहले स्वयं स्नान कर शुद्ध हो जाएं और साफ वस्त्र धारण करें। सिर्फ लाल रंग की धोती पहने तो और भी अच्छा रहेगा। चोला चढ़ाने के लिए चमेली के तेल का उपयोग करें। साथ ही, चोला चढ़ाते समय एक दीपक हनुमानजी के सामने जला कर रख दें। दीपक में भी चमेली के तेल का ही उपयोग करें।
🙏🏻 चोला चढ़ाने के बाद हनुमानजी को गुलाब के फूल की माला पहनाएं और केवड़े का इत्र हनुमानजी की मूर्ति के दोनों कंधों पर थोड़ा-थोड़ा छिटक दें। अब एक साबुत पान का पत्ता लें और इसके ऊपर थोड़ा गुड़ व चना रख कर हनुमानजी को भोग लगाएं। भोग लगाने के बाद उसी स्थान पर थोड़ी देर बैठकर तुलसी की माला से नीचे लिखे मंत्र का जप करें। कम से कम 5 माला जप अवश्य करें।
🌷 मंत्र- राम रामेति रामेति रमे रामे मनोरमे।
सहस्त्र नाम तत्तुन्यं राम नाम वरानने।।
🌹 अब हनुमानजी को चढाए गए गुलाब के फूल की माला से एक फूल तोड़ कर, उसे एक लाल कपड़े में लपेटकर अपने धन स्थान यानी तिजोरी में रखें। इससे धन संबंधी समस्या हल होने के योग बनने लगेंगे।
🌳 करें बड़ के पेड़ का उपाय गुरुवार की सुबह स्नान करने के बाद बड़ (बरगद) के पेड़ का एक पत्ता तोड़ें और इसे साफ स्वच्छ पानी से धो लें। अब इस पत्ते को कुछ देर हनुमानजी की प्रतिमा के सामने रखें और इसके बाद इस पर केसर से श्रीराम लिखें। अब इस पत्ते को अपने पर्स में रख लें। साल भर आपका पर्स पैसों से भरा रहेगा। अगली होली पर इस पत्ते को किसी नदी में प्रवाहित कर दें और इसी प्रकार से एक और पत्ता अभिमंत्रित कर अपने पर्स में रख लें।
🏡 घर में स्थापित करें पारद हनुमान की प्रतिमा अपने घर में पारद से निर्मित हनुमानजी की प्रतिमा स्थापित करें। पारद को रसराज कहा जाता है। पारद से बनी हनुमान प्रतिमा की पूजा करने से बिगड़े काम भी बन जाते हैं। पारद से निर्मित हनुमान प्रतिमा को घर में रखने से सभी प्रकार के वास्तु दोष स्वत: ही दूर हो जाते हैं, साथ ही घर का वातावरण भी शुद्ध होता है। प्रतिदिन इसकी पूजा करने से किसी भी प्रकार के तंत्र का असर घर में नहीं होता और न ही साधक पर किसी तंत्र क्रिया का प्रभाव पड़ता है। यदि किसी को पितृदोष हो, तो उसे प्रतिदिन पारद हनुमान प्रतिमा की पूजा करनी चाहिए। इससे पितृदोष समाप्त हो जाता है।
🔥 शाम को जलाएं दीपक हनुमान जयंती की शाम को समीप स्थित किसी हनुमान मंदिर में जाएं और हनुमानजी की प्रतिमा के सामने एक सरसों के तेल का व एक शुद्ध घी का दीपक जलाएं। इसके बाद वहीं बैठकर हनुमान चालीसा का पाठ करें। हनुमानजी की कृपा पाने का ये एक अचूक उपाय है। करें राम रक्षा स्त्रोत का पाठ सुबह स्नान आदि करने के बाद किसी हनुमान मंदिर में जाएं और राम रक्षा स्त्रोत का पाठ करें। इसके बाद हनुमानजी को गुड़ और चने का भोग लगाएं। जीवन में यदि कोई समस्या है, तो उसका निवारण करने के लिए प्रार्थना करें।

आचार्य अरूणा दाधीच जन्मपत्री विशेषज्ञ जयपुर 9983974145
          🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞
🙏🏻🌷💐🌸🌼🌹🍀🌺💐🙏🏻
read more

Daily Panchang for 17th April 2019

आज का हिन्दू पंचांग ~ 🌞
⛅ दिनांक 17 अप्रैल 2019
⛅ दिन - बुधवार 
⛅ *विक्रम संवत - 2076 
⛅ शक संवत -1941
⛅ अयन - उत्तरायण
⛅ ऋतु - वसंत
⛅ मास - चैत्र
⛅ पक्ष - शुक्ल 
⛅ तिथि - त्रयोदशी रात्रि 10:24 तक तत्पश्चात चतुर्दशी
⛅ नक्षत्र - उत्तराफाल्गुनी रात्रि 11:36 तकतत्पश्चात हस्त
⛅ योग - ध्रुव शाम 06:33 तक तत्पश्चात व्याघात
⛅ राहुकाल - दोपहर 12:27 से दोपहर 02:01 तक 
⛅ सूर्योदय - 06:19
⛅ सूर्यास्त - 18:57 
⛅ दिशाशूल - उत्तर दिशा में
⛅ व्रत पर्व विवरण - प्रदोष व्रत, अनंग त्रयोदशी
💥 विशेष - त्रयोदशी को बैंगन खाने से पुत्र का नाश होता है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)
               🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞

🌷 वास्तु शास्त्र 🌷
🙏🏻 यदि घर में देवी-देवताओं के चित्र लगे हों तो घर में कई तरह की परेशानियां दूर हो जाती हैं और घर में सुख-शांति बनी रहती है। वास्तुशास्त्र के अनुसार, घर में हनुमान जी की तस्वीर लगाने से कई लाभ मिलते हैं। अगर घर में वास्तु के नियमानुसार सही दिशा में सही तरह से हनुमानजी की तस्वीर लगाई जाए तो कई लाभ हो सकते हैं।
1⃣ हनुमानजी बाल ब्रहमचारी है इसलिए उनकी तस्वीर बेडरूम में नहीं लगानी चाहिए। बेडरूम में लगाई गई हनुमानजी की तस्वीर शुभ फल नहीं देती।
2⃣ भगवान हनुमानजी की तस्वीर घर या दुकान में दक्षिण दिशा की ओर लगाना सबसे अच्छा माना जाता है। क्योंकि हनुमानजी ने अपनी शक्तियों का प्रयोग दक्षिण दिशा की ओर दिखाया था।
3⃣ घर मे पंचमुखी, पर्वत उठाते हुए या राम भजन करते हुए हनुमानजी की तस्वीर लगाना सबसे अच्छा होता है। इससे घर के सभी दोष खत्म हो जाते हैं।
4⃣ उत्तर दिशा में हनुमानजी की तस्वीर लगाने पर दक्षिण दिशा से आने वाली प्रत्येक नकारात्मक शक्ति को हनुमानजी रोक देते हैं। इससे घर में सुख और समृद्धि बनी रहती है।
5⃣ जिस रुप में हनुमानजी अपनी शक्ति का प्रदर्शन कर रहे हो. ऐसी तस्वीर घर में लगाने से किसी तरह की बुरी शक्ति घर में प्रवेश नहीं कर पाती।
6⃣ हनुमानजी की तस्वीर पर सिंदूर जरुर लगाना चाहिए। ऐसा न कर पाने पर सिंदूर का केवल तिलक भी किया जा सकता है। इससे सभी मनोकामनाएं जरुर पूरी होती हैं । 
              🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞

🌷 हनुमान जयंती 🌷
🙏🏻 धर्म ग्रंथों में हनुमानजी के 12 नाम बताए गए हैं, जिनके द्वारा उनकी स्तुति की जाती है। गीताप्रेस गोरखपुर द्वारा प्रकाशित श्रीहनुमान अंक के अनुसार हनुमानजी के इन 12 नामों का जो रात में सोने से पहले व सुबह उठने पर अथवा यात्रा प्रारंभ करने से पहले पाठ करता है, उसके सभी भय दूर हो जाते हैं और उसे अपने जीवन में सभी सुख प्राप्त होते हैं। वह अपने जीवन में अनेक उपलब्धियां प्राप्त करता है। हनुमानजी की 12 नामों वाली स्तुति इस प्रकार है-
🌷 स्तुति
हनुमानअंजनीसूनुर्वायुपुत्रो महाबल:।
रामेष्ट: फाल्गुनसख: पिंगाक्षोअमितविक्रम:।।
उदधिक्रमणश्चेव सीताशोकविनाशन:।
लक्ष्मणप्राणदाता च दशग्रीवस्य दर्पहा।।
एवं द्वादश नामानि कपीन्द्रस्य महात्मन:।
स्वापकाले प्रबोधे च यात्राकाले च य: पठेत्।।*
तस्य सर्वभयं नास्ति रणे च विजयी भवेत्।
राजद्वारे गह्वरे च भयं नास्ति कदाचन।।
🙏🏻 इन 12 नामो से होती है हनुमानजी की स्तुति, जानिए इनकी महिमा
🙏🏻  हनुमान
  हनुमानजी का यह नाम इसलिए पड़ा क्योकी एक बार क्रोधित होकर देवराज इंद्र ने इनके ऊपर अपने वज्र प्रहार किया था यह वज्र सीधे इनकी ठोड़ी (हनु) पर लगा। हनु पर वज्र का प्रहार होने के कारण ही इनका नाम हनुमान पड़ा ।
🙏🏻  लक्ष्मणप्राणदाता
 जब रावण के पुत्र इंद्रजीत ने शक्ति का उपयोग कर लक्ष्मण को बेहोश कर दिया था, तब हनुमानजी  संजीवनी बूटी लेकर आए थे। उसी बूटी के प्रभाव से  लक्ष्मण को होश आया था।इस लिए  हनुमानजी को लक्ष्मणप्राणदाता भी कहा जाता है ।
🙏🏻  दशग्रीवदर्पहा
 दशग्रीव यानी रावण और दर्पहा यानी धमंड तोड़ने वाला । हनुमानजी ने लंका जाकर सीता माता का पता लगाया, रावण के पुत्र अक्षयकुमार का वध किया साथ ही लंका में आग भी लगा दी ।इस प्रकार हनुमानजी ने कई बार रावण का धमंड तोड़ा था । इसलिए इनका एक नाम ये भी प्रसिद्ध है ।
🙏🏻  रामेष्ट
 हनुमान भगवान श्रीराम के परम भक्त हैं । धर्म ग्रंथों में अनेक स्थानों पर वर्णन मिलता है कि श्रीराम ने हनुमान को अपना प्रिय माना है । भगवान श्रीराम को प्रिय होने के कारण ही इनका एक नाम रामेष्ट भी है ।
🙏🏻 फाल्गुनसुख
 महाभारत के अनुसार, पांडु पुत्र अर्जुन का एक नाम फाल्गुन भी है । युद्ध के समय हनुमानजी अर्जुन के रथ की ध्वजा पर विराजित थे । इस प्रकार उन्होंने अर्जुन की सहायता की । सहायता करने के कारण ही उन्हें अर्जुन का मित्र कहा गया है । फाल्गुन सुख का अर्थ है अर्जुन का मित्र ।
🙏🏻  पिंगाक्ष
  पिंगाक्ष का अर्थ है भूरी आंखों वाला ।अनेक धर्म ग्रंथों में हनुमानजी का वर्णन किया गया है । उसमें हनुमानजी को भूरी आंखों वाला बताया है । इसलिए इनका एक नाम  पिंगाक्ष भी है ।
🙏🏻  अमितविक्रम
  विक्रम का अर्थ है पराक्रमी और अमित का अर्थ है बहुत अधिक । हनुमानजी ने अपने पराक्रम के बल पर ऐसे बहुत से कार्य किए, जिन्हें करना देवताओं के लिए भी कठिन था । इसलिए इन्हें अमितविक्रम भी कहा जाता हैं ।
🙏🏻  उदधिक्रमण
  उदधिक्रमण का अर्थ है समुद्र का अतिक्रमण करने वाले यानी लांधने वाला । सीता माता की खोज करते समय हनुमानजी ने समुद्र को लांधा था। इसलिए इनका एक नाम ये भी है ।
🙏🏻  अंजनीसूनु
 माता अंजनी के पुत्र होने के कारण ही हनुमानजी का एक नाम अंजनीसूनु भी प्रसिद्ध है ।
🙏🏻  वायुपुत्र
 हनुमानजी का एक नाम वायुपुत्र भी है । पवनदेव के  पुत्र होने के कारण ही इन्हें वायुपुत्र भी कहा जाता है ।
🙏🏻  महाबल 
  हनुमानजी के बल की कोई सीमा नहीं हैं । इसलिए इनका एक नाम महाबल भी है ।
🙏🏻  सीताशोकविनाशन
  माता सीता के शोक का निवारण करने के कारण हनुमानजी का ये नाम पड़ा ।

📖 *आचार्य अरूणा दाधीच जन्मपत्री विशेषज्ञ जयपुर 99839774145
Astrolok is one of the famous astrology institute based in Indore where you can learn vedic astrology, marriage astrology, nadi astrology,horoscope matching through live vedic astrology classes. It is a free platform to write astrology articles. Become a part of it by registering at https://www.astrolok.in/index.php/welcome/register
read more

Daily Panchang for 16th April 2019

आज का हिन्दू पंचांग ~ 🌞
⛅ दिनांक 16 अप्रैल 2019
⛅ दिन - मंगलवार 
⛅ *विक्रम संवत - 2076 
⛅ शक संवत -1941
⛅ अयन - उत्तरायण
⛅ ऋतु - वसंत
⛅ मास - चैत्र
⛅ पक्ष - शुक्ल 
⛅ तिथि - द्वादशी 17 अप्रैल रात्रि 01:26 तक तत्पश्चात त्रयोदशी
⛅ नक्षत्र - पूर्वाफाल्गुनी 17 अप्रैल रात्रि 01:51 तकतत्पश्चात उत्तराफाल्गुनी
⛅ योग - वृद्धि रात्रि 10:09 तक तत्पश्चात ध्रुव
⛅ राहुकाल - शाम 03:36 से शाम 05:10 तक 
⛅ सूर्योदय - 06:20
⛅ सूर्यास्त - 18:56 
⛅ दिशाशूल - उत्तर दिशा में
⛅ व्रत पर्व विवरण - कामदा एकादशी  (भागवत), वामन-मदन द्वादशी, विष्णुदमनोत्सव
💥 विशेष - हर एकादशी को श्री विष्णु सहस्रनाम का पाठ करने से घर में सुख शांति बनी रहती है lराम रामेति रामेति । रमे रामे मनोरमे ।। सहस्त्र नाम त तुल्यं । राम नाम वरानने ।।
💥 आज एकादशी के दिन इस मंत्र के पाठ से विष्णु सहस्रनाम के जप के समान पुण्य प्राप्त होता है l
💥 एकादशी के दिन बाल नहीं कटवाने चाहिए।
💥 एकादशी को चावल व साबूदाना खाना वर्जित है | एकादशी को शिम्बी (सेम) ना खाएं अन्यथा पुत्र का नाश होता है।
💥 जो दोनों पक्षों की एकादशियों को आँवले के रस का प्रयोग कर स्नान करते हैं, उनके पाप नष्ट हो जाते हैं।
💥 द्वादशी को पूतिका(पोई) अथवा त्रयोदशी को बैंगन खाने से पुत्र का नाश होता है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)
💥 स्कंद पुराण के अनुसार द्वादशी के दिन बिल्ववृक्ष का पूजन करना चाहिए। इससे ब्रह्महत्या आदि महापाप भी नष्ट हो जाते हैं।
               🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞

🌷 अंनग त्रयोदशी 🌷
🙏🏻 17 अप्रैल 2019 बुधवार को अंनग त्रयोदशी के दिन व्रत करने से दाम्पत्य - प्रेम में वृद्धि होती है तथा पति - पुत्रादि का अखंड सुख प्राप्त होता है।
          🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞

🌷 हनुमानजी प्रणाम मंत्र 🌷
➡ 19 अप्रैल 2019 शुक्रवार को हनुमान जयंती है ।
🙏🏻 मैं जब भी कभी हनुमानजी की मूर्ति के सामने खड़ा होता हूँ तो यही बोलता हूं -
🌷 सुमिरि पवनसुत पावन नाम , अपने वश करि राखे राम ।
🙏🏻 हे हनुमानजी, आपने रामनाम का ऐसा तो सुमिरन किया कि रामजी को ही आपने अपने वश में कर लिया ।
🌳 आप भी कभी जाओ तो ये बोलना क्‍योंकि हनुमानजी को जप बहुत अच्‍छा लगता है । हनुमानजी के आगे कोई
🙏🏻 सिंदूर और चोला न चढ़ाये, नारियल न रखें तो हनुमानजी नाराज नहीं होंगे पर ये बोल दे कि हनुमानजी आपको भगवान का नाम कितना प्‍यारा लगता है ।
🌷 सुमिरि पवनसुत पावन नाम , अपने वश करि राखे राम । हनुमानजी राजी होंगे ।

                 🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞

🌷 हनुमान जयंती - दीप दान महिमा 🌷
🙏🏻 गेहूँ, तिल, उड़द, मूंग और चावल.. इन पाँचों के आटे से मिलाकर दिया बनाया जाये और वो जलाकर हनुमानजी के नाम से मंदिर में, पीपल या बड के पेड़ या घर में ही रखा जाये तो बड़ा शुभ माना जाता है |
🌷 इससे मनोरथो की सिद्धि होती है| 🌷
🙏🏻 भक्ति बढ़ाने की भावना से हनुमानजी की राम भक्ति सच्ची है तो मेरी भी मेरे अराध्य के चरणों में, मेरे सद्गुरु के चरणों में मेरी भक्ति सच्ची हो, दृढ हो | मेरा जीवन उपासनामय हो | मैं इच्छानिवृति का रास्ता कभी न छोडू, मैं गुरु की उपासना का रास्ता कभी न छोडू | मेरी भक्ति में दृढ़ता है इसलिए हनुमानजी की जयंती को हनुमान के नाम से पाँच अन्न का आटा मिलाकर अगर दीपक बनाया जाये और हनुमानजी के नाम से जलाया जाय तो बड़ा शुभ माना जाता है | सरसों का तेल के और घी का भी दिया कर सकते हैं |
💥 19 अप्रैल 2019 शुक्रवार  को हनुमान जयंती है ।

📖 आचार्य अरूणा दाधीच जन्मपत्री विशेषज्ञ जयपुर 9983974145

Astrolok is one of the famous astrology institute based in Indore where you can learn vedic astrology, marriage astrology, nadi astrology,horoscope matching through live vedic astrology classes. It is a free platform to write astrology articles. Become a part of it by registering at
https://www.astrolok.in/index.php/welcome/register
read more

Daily Panchang for 15th April 2019

आज का हिन्दू पंचांग ~ 🌞
⛅ दिनांक 15 अप्रैल 2019
⛅ दिन - सोमवार 
⛅ *विक्रम संवत - 2076 
⛅ शक संवत -1941
⛅ अयन - उत्तरायण
⛅ ऋतु - वसंत
⛅ मास - चैत्र
⛅ पक्ष - शुक्ल 
⛅ तिथि - दशमी सुबह 07:08 तक तत्पश्चात एकादशी
⛅ नक्षत्र - मघा सुबह 16 अप्रैल प्रातः 04:02 तकतत्पश्चात पूर्वाफाल्गुनी
⛅ योग - गण्ड 16 अप्रैल रात्रि 01:40 तक तत्पश्चात वृद्धि
⛅ राहुकाल - सुबह 07:36 से सुबह 09:12 तक 
⛅ सूर्योदय - 06:22
⛅ सूर्यास्त - 18:56 
⛅ दिशाशूल - पूर्व दिशा में
⛅ व्रत पर्व विवरण - कामदा एकादशी  (स्मार्त), धर्मराज दशमी, एकादशी क्षय तिथि
💥 *विशेष - 
               🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞

🌷 कामदा एकादशी 🌷
➡ 15 अप्रैल 2019 सोमवार को सुबह 07:09 से 16 अप्रैल 2019 मंगलवार को प्रातः 04:23 तक एकादशी है ।
💥 विशेष 16 अप्रैल 2019 मंगलवार को एकादशी का व्रत (उपवास) रखें ।
🙏🏻 निर्णयसिन्धु के प्रथम परिच्छेद में एकादशी के निर्णय में 18 भेद कहे गये हैंl
🙏🏻 कालहेमाद्रि में मार्कण्डेयजी ने कहा है – जब बहुत वाक्य के विरोध से यदि संदेह हो जाय तो एकादशी का उपवास द्वादशी को  करें  और त्रयोदशी में पारणा करें ।
🙏🏻 पद्म पुराण में आता है कि एकादशी व्रत के निर्णय में सब विवादों में द्वादशी को उपवास तथा त्रयोदशी में पारणा करें  ।
💥 विशेष ~ अतः इस बार भी शास्त्र अनुसार 16 अप्रैल को उपवास करें।
          🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞

🌷 एकादशी के दिन करने योग्य 🌷
🙏🏻 एकादशी को दिया जलाके विष्णु सहस्त्र नाम पढ़ें .......विष्णु सहस्त्र नाम नहीं हो तो १० माला गुरुमंत्र का जप कर लें l अगर घर में झगडे होते हों, तो झगड़े शांत हों जायें ऐसा संकल्प करके विष्णु सहस्त्र नाम पढ़ें तो घर के झगड़े भी शांत होंगे l

          🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞

🌷 एकादशी के दिन ये सावधानी रहे 🌷
🙏🏻 *महिने में १५-१५ दिन में  एकादशी आती है एकादशी का व्रत पाप और रोगों को स्वाहा कर देता है लेकिन वृद्ध, बालक और बीमार व्यक्ति एकादशी न रख सके तभी भी उनको चावल का तो त्याग करना चाहिए एकादशी के दिन जो चावल खाता है... तो धार्मिक ग्रन्थ से एक- एक चावल एक- एक कीड़ा खाने का पाप लगता है...

📖 *आचार्य अरूणा दाधीच जन्मपत्री विशेषज्ञ जयपुर 9983974145

Astrolok is one of the famous astrology institute based in Indore where you can learn vedic astrology, marriage astrology, nadi astrology,horoscope matching through live vedic astrology classes. It is a free platform to write astrology articles. Become a part of it by registering at https://www.astrolok.in/index.php/welcome/register

read more