• +(91) 7000106621
  • astrolok.vedic@gmail.com

Learn what’s best for you

Learn Jyotish

Love Astrology ! Love Marriage ! Love Horoscope

Today we will talk about LOVE ASTROLOGY | LOVE MARRIAGE | LOVE HOROSCOPE

What's my Materialize Love program all about?

This is the main question revolves in everyone's mind.

People are looking forward to know the kind of love present in their horoscope like one night stand or illegal relationship or sexual attraction.

What is love ??? or we can say what is real love ??

This is the main issue of young generation today.

Here we elaborate the actual meaning of love i.e. love at first sight. So we should know and follow this point in life and never go beyond other thing.

Everyone is curios to know about love or live in sin or love marraige or love break up .

How much time love lasts long ?

This improving mentality haunts everyone. In everyone's chart there is promise of love and affairs.  But how to know this,  there is rule behind this.

If 5th cuspal sublord any way connected with 2nd, 5th, 11th, then we can say promise is there but actual position will depict your horoscope .

In astrology 7th house indicates marriage and Spouse.

The planet Venus is is Kalatra Karaka who is the indicator of marriage and love life. If Venus or 7th lord is conjunction or aspection by Saturn or Mars then native have high chance of unconventional marriage ie: Love marriage.

If Venus is afflicted and aspected by Saturn, Rahu and Mars then native will do love marriage but he may not get support from society or family.

If Venus and Mars conjoins without any benefic aspection then native may indulge in multiple marriage or multiple relationship and if this combination have anything to do with Lagna or 10th house then he may lose his reputation by this act.

If the conjunction of Venus with Saturn and Mars is well placed then the person will have successful love marriage.

For example if Venus, 7th lord, 2nd lord are well placed but have aspection from Saturn without any other affliction then native will have love marriage with positive support from society and family members.

Here we will solve your above query easily by interpreting  your horoscope if you are interested then contact for details.  

Regards

Avinash  

M/W 9801803610

Astrolok is one of the best astrology institute where you can learn vedic astrology, marriage astrology, nadi astrology,horoscope matching through live vedic astrology classes. It is a free platform to write astrology articles. Become a part of it by registering at https://www.astrolok.in/index.php/welcome/register


read more

Daily Panchang for 20th February 2019

आज का हिन्दू पंचांग ~ 🌞
⛅ दिनांक 20 फरवरी 2019
⛅ दिन - बुधवार 
⛅ विक्रम संवत - 2075
⛅ शक संवत -1940
⛅ अयन - उत्तरायण
⛅ ऋतु - वसंत
⛅ *मास - फाल्गुन 
⛅ पक्ष - कृष्ण 
⛅ तिथि - प्रतिपदा शाम 05:36 तक तत्पश्चात द्वितीया
⛅ नक्षत्र - मघा सुबह 08:00 तक तत्पश्चात उत्तराफाल्गुनी
⛅ योग - अतिगण्ड सुबह 07:29 तक तत्पश्चात सुकर्मा
⛅ राहुकाल - दोपहर 12:36 से दोपहर 02:00 तक 
⛅ सूर्योदय - 07:08
⛅ सूर्यास्त - 18:37 
⛅ दिशाशूल - उत्तर दिशा में
⛅ व्रत पर्व विवरण - गुरु प्रतिपदा
💥 विशेष - प्रतिपदा को कूष्माण्ड(कुम्हड़ा, पेठा) न खाये, क्योंकि यह धन का नाश करने वाला है। (ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)
               🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞

🌷 गले व छाती के रोगों में क्या करें 🌷
➡ १) गले में दर्द, खाँसी, कफ, संक्रमण (इन्फेक्शन ) आदि में आधा चम्मच पिसी हल्दी मुँह में रखकर मुँह बंद कर लें | लार के साथ हल्दी अंदर जाने से उपरोक्त सभी बीमारियों में आराम मिलता है | बच्चों की टॉन्सिल्स की समस्या में ऑपरेशन न कराके इस प्रयोग से लाभ लें | (बच्चों के लिए हल्दी की मात्रा – पौन चम्मच)
➡ २) छाती की गम्भीर बीमारियाँ जैसी  – डीएमए, पुरानी खाँसी, न्युमोनिया आदि में सुबह आधा कप ताजा गोमूत्र कपड़े से ७ बार छानकर पीना लाभदायक है | गोमूत्र नहीं मिले तो आश्रम की गौशाला में बना हुआ १०-१५ ग्राम गोझरण अर्क और उतना ही पानी मिलाकर लेना भी लाभदायी है | ५ – ६ महिने तक लगातार गोमूत्र पीने से क्षयरोग (टी.बी.) में भी आराम मिलता है |
➡ ३) दमे में प्रतिदिन खाली पेट १ – २ ग्राम दालचीनी का चूर्ण गुड़ या शहद मिलाकर गरम पानी के साथ लेना हितकारी है |

          🌞 ~   हिन्दू पंचांग ~ 🌞

🌷 सुख-शांति व बरकत के उपाय 🌷
🌿 · तुलसी को रोज जल चढायें तथा गाय के घी का दीपक जलायें | 
🍃 · सुबह बिल्वपत्र पर सफेद चंदन का तिलक लगाकर संकल्प करके शिवलिंग पर जल अर्पित करें तथा पूरी श्रद्धा से प्रार्थना  करें |


📖 *आचार्य अरुणा दाधीच जन्मपत्री विषेशज्ञ जयपुर 9983974145

Astrolok is one of the best astrology institute where you can learn vedic astrology, marriage astrology, nadi astrology,horoscope matching through live vedic astrology classes. It is a free platform to write astrology articles. Become a part of it by registering at https://www.astrolok.in/index.php/welcome/register

read more

Know the Effect of Sun in Various Houses in Astrology

In Indian astrology, the sun is called the King of the planets.

The main reason behind this is that all calculations in Indian astrology are predominantly based on the Sun, from the time of sunrise.
The Sun is also seen as Rahu and Saturn in the form of a separate planet. It means if it looks on the house then it will remove the person from some other way, apart or unhappy. The only vision of the sun is that the seventh sight.

Apart from this, on the rashi of friendship, the friend is adversely affected when the person is in favor and in enemy territory. We have seen that some months for us are very painful, then some are very good. Mainly it is due to the presence of other planets in the Sun as well as going from one of the twelve zodiac signs to another.

The change or movement of any planet from one zodiac to another is known as transit. As on January 14, the Sun enters the Capricorn with the sagittarius rashi. This is what we call Makar Sankranti because it is the Sun's revolution.

Sun remains a month in one zodiac. In this way, in twelve months or year, from the Aries to the Pisces, they are able to complete the journey of all the twelve zodiacs in straight order.

Sun and moon are never vakri. 
For example, the first three rashi are Aries, Taurus and Gemini. Take a planet in Taurus, and if the planet changes rashi and goes into Aries, then these rashi Instead of in the straight order, in the opposite order. Therefore, the path of the planet will be called a vakri. However, by changing the rashi from the straight order, if the planet goes into the Gemini with the Taurus rashi then Because of this move it is called margi.

Rahu and Ketu will always go in reverse order.

So both of them are always vakri. 

Now we will see the effect of sun in various houses in chart.

*In the first house - From the marriage or birth rashi, if the sun travels in the first house then it gives physical pain, anxiety of husband and wife, expenditure of money and wasteful work.

* In the second, the sun causes disease, money loss, anxiety-strife.

* In the third house, Parakrama, good fortune, conquer enemies, celebrate festive and auspicious program.

* In the fourth house, the state fears, pain to the mother, disputes with the father, obstacles in the work and reduces happiness.

* In the fifth house, there is wealth loss, deviation in mind, worry of children etc.

*In the Sixth house gives opportunity to freedom from disease, victory over enemies, money gain, travel and advancement.

*In the Seventh houseDue to abdominal disorder in the seventh house, there will be stress, failure, financial hardships and mental distress in marriage.

*In the eighth house provides sun damage, mental instability, accidents, state loss and disease.

**In the ninth house - The wind of Navam Bhava confronts vain speculation, failure and failure.

**In the tenth house - Increases the happiness in tenth house, promotion in the workplace, gift-lottery, excursion etc.

*In the eleventh house Eliminates the path of education, benefits, children-happiness, money-benefit, health-benefits and progress in Eleventh house.

* In the twelfth house, in vain spending, physical suffering, trust, ambition, state fear and loss.
* For accurate analysis, any horoscope can be told only by observing the conditions of other planets and their transit.

Astrolok is one of the best astrology institute where you can learn vedic astrology, marriage astrology, nadi astrology,horoscope matching through live vedic astrology classes. It is a free platform to write astrology articles. Become a part of it by registering at https://www.astrolok.in/index.php/welcome/register

read more

जानिये चतुर्थेश का विभिन्न भावो में फल !!


1 पहला घर -: जातक ग्रहों के प्रभाव में रहता है। ग्रह प्रबल हों तो जातक को समृद्धि मिलती है, वहीं ग्रह की सामान्‍य दशा होने पर जातक को औसत लाभ होता है एवं ग्रहों की कमजोर स्थिति जातक को गरीब बना देती है। जातक को सार्वजनिक रूप से बात करने में झिझक महसूस होती है। वह बुद्धिमान होता है।

2 दूसरा घर -: इन्‍हें अपनी माता के परिजनों से धन लाभ होता है। वह साहसी, सुखी और भाग्‍यशाली होते हैं। यह अत्‍यधिक फिजूलखर्चा करते हैं।

3 तीसरा घर -: यह जातक अपनी सौतेली माता एवं भाई से परेशान रहते हैं। यह दयालु एवं सैद्धांतिक होते हैं। यह अपनी किस्‍मत खुद बनाते हैं एवं इनका स्‍वास्‍थ्‍य ज्‍यादातर खराब ही रहता है।

4 चौथा घर -: इन जातकों को समृद्धि और सम्‍मान मिलता है। यह धार्मिक और परंपरागत होते हैं।

5 पांचवा घर -: यह भगवान विष्‍णु के उपासक होते हैं और सभी को प्रेम करते हैं। इनकी माता सम्‍मानित परिवार से होती हैं।

6 छठा घर -: यह जातक धोखेबाज और कपटी होता है। इनमें कई बुराईयां होती हैं।

7 सातवां घर -: इस घर के चिह्न पर ही जातक का निवास स्‍थान निर्भर करता है। गतिशील चिह्न होने की स्‍थिति में जातक को अपने घर से दूर जाकर काम करना पड़ता है। इनके पास अत्‍यधिक जमीन-जायदाद होती है और यह सुखमय जीवन बिताते हैं।  

8 अष्‍टम् घर -: इनमें प्रजनन क्षमता बहुत कम होती है। इनके पिता की अल्‍पायु होती है। ये अत्‍यधिक तनाव में रहते हैं, संपत्ति का नुकसान और कानूनी मामलों में फंसे रहते हैं।  

9 नवम् घर -: यह जातक और उनके पिता के पास संपत्ति, सम्‍मान और प्रतिष्‍ठा होती है। इन्‍हें हर तरह से लाभ होता है।

10 दसवां घर -: चौथे घर के स्‍वामी के प्रभावित होने पर जातक की प्रतिष्‍ठा का ह्रास होता है। इन्‍हें राजनीतिक सफलता मिलती है।

11 ग्‍यारहवां घर -: इन जातकों की माता अत्‍यंत सुख देती हैं, सौतेली मां के होने पर भी इन जातकों को समान प्रेम ही मिलता है। यह दयालु होते हैं। इनकी सेहत बिगड़ी रहती है एवं यह केवल अपने लिए कमाते हैं।  

12 बारहवां घर -: इनका जीवन गरीबी और दुखों में बीतता है। इनकी माता की अल्‍पायु होती है।


Astrolok is one of the best astrology institute where you can learn vedic astrology, marriage astrology, nadi astrology, horoscope matching through live vedic astrology classes. It is a free platform to write astrology articles. Become a part of it by registering at 
read more

Daily Panchang for 19th February 2019

आज का हिन्दू पंचांग
⛅ दिनांक 19 फरवरी 2019
⛅ दिन - मंगलवार 
⛅ विक्रम संवत - 2075
⛅ शक संवत -1940
⛅ अयन - उत्तरायण
⛅ ऋतु - वसंत
⛅ मास - माघ
⛅ पक्ष - शुक्ल 
⛅ तिथि - पूर्णिमा रात्रि 09:23 तक तत्पश्चात प्रतिपदा
⛅ नक्षत्र - अश्लेशा सुबह 11:03 तक तत्पश्चात मघा
⛅ योग - शोभन सुबह 11:50 तक तत्पश्चात अतिगण्ड
⛅ राहुकाल - शाम 03:23 से शाम 04:47 तक 
⛅ सूर्योदय - 07:08
⛅ सूर्यास्त - 18:37 
⛅ दिशाशूल - उत्तर दिशा में
⛅ व्रत पर्व विवरण - व्रत पूर्णिमा, माघी पूर्णिमा, माघ स्नान समाप्त, संत रविदासजी जयंती, छत्रपति शिवाजी जयंती  (दि.अ.), प्रयाग कुंभ स्नान

               🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞

🌷 माघी पूर्णिमा 🌷
🙏🏻 धर्म शास्त्रों में पूर्णिमा तिथि को विशेष फलदाई माना गया है। उन सभी पूर्णिमाओं में माघी पूर्णिमा (इस बार 19 फरवरी, मंगलवार) का महत्व कहीं अधिक है। पुराणों के अनुसार, इस दिन विशेष उपाय करने से धन की देवी मां लक्ष्मी शीघ्र ही प्रसन्न हो जाती हैं। और भी कई उपाय इस दिन करने से शुभ फल मिलते हैं।

ये उपाय इस प्रकार हैं-

➡ 1. माघी पूर्णिमा माता लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए विशेष तिथि मानी गई है। इस पूर्णिमा की रात लगभग 12 बजे महालक्ष्मी की भगवान विष्णु सहित पूजा करें एवं रात को ही घर के मुख्य दरवाजे पर घी का दीपक लगाएं। इस उपाय से माता लक्ष्मी प्रसन्न होकर उस घर में निवास करती हैं।
➡ 2. माघी पूर्णिमा की सुबह पास के किसी लक्ष्मी मंदिर में जाएं और 11 गुलाब के फूल अर्पित करें। इससे माता लक्ष्मी के साथ भगवान विष्णु की कृपा भी आपको प्राप्त होगी और अचानक धन लाभ के योग भी बनेंगे।
➡ 3. मंगलवार की शाम किसी लक्ष्मी मंदिर में जाकर लक्ष्मी प्रतिमा के सामने 7 पीली कौड़ियां रखें। रात 12 बजे के बाद इन्हें अपने घर के किसी कोने में गाड दें। इससे जल्दी ही धन संबंधी समस्याएं समाप्त हो जाएंगी।
➡ 4. माघी पूर्णिमा की सुबह पूरे विधि-विधान से माता सरस्वती की भी पूजा की जाती है। इस दिन माता सरस्वती को सफेद फूल चढ़ाएं व खीर का भोग लगाएं। विद्या, बुद्धि देने वाली यह देवी इस उपाय से विशेष प्रसन्न होती हैं।
➡ 5. पितरों के तर्पण के लिए भी यह दिन उत्तम माना गया है। इस दिन पितरों के निमित्त जलदान, अन्नदान, भूमिदान, वस्त्र एवं भोजन पदार्थ दान करने से उन्हें तृप्ति होती है। जोड़े सहित ब्राह्मणों को भोजन कराने से अनन्त फल की प्राप्ति होती है।
➡ 6. वैसे तो सभी पूर्णिमा पर भगवान सत्यनारायण की पूजा होती है  किंतु माघ मास की पूर्णिमा पर इसका महत्व बढ़कर बताया गया है। शाम को भगवान सत्यनारायण की पूजा कर, धूप दीप नैवेद्य अर्पण करें। भगवान सत्यनारायण की कथा सुनें।
➡ 7. माघी पूर्णिमा पर दान का भी विशेष महत्व है। धर्म ग्रंथों के अनुसार, इस दिन जरूरतमंदों को तिल, कंबल, कपास, गुड़, घी, मोदक, जूते, फल, अन्न आदि का दान करना चाहिए।
          🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞

🌷 माघी पूर्णिमा 🌷

🙏🏻 (19 फरवरी, मंगलवार) माघ मास की पूर्णिमा है। धर्म ग्रंथों में इसे माघी पूर्णिमा कहा गया है। इस पूर्णिमा पर संयम से रहना, सुबह स्नान करना एवं व्रत, दान करना आदि नियम बताए  गए हैं। इस समय शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होती है। इसलिए इस समय व्रत करने से शरीर रोगग्रस्त नहीं होता एवं आगे आने वाले समय के लिए सकारात्मकता प्राप्त होती है।

🙏🏻 माघी पूर्णिमा की सुबह स्नान आदि करने के बाद भगवान विष्णु की पूजा करें। फिर पितरों का श्राद्ध कर निशक्तजनों को भोजन, वस्त्र, तिल, कंबल, कपास, गुड़, घी, जूते, फल, अन्न आदि का दान करें। इस दिन सोने एवं चांदी का दान भी किया जाता है। गौ दान का विशेष फल प्राप्त होता है।

🙏🏻 इसी दिन संयमपूर्वक आचरण कर व्रत करें। इस दिन ज्यादा जोर से बोलना या किसी पर क्रोध नहीं करना चाहिए। गृह क्लेश से बचना चाहिए। गरीबों एवं जरुरतमंदों की सहायता करनी चाहिए। इस बात का विशेष ध्यान रखें कि आपके द्वारा या आपके मन, वचन या कर्म के माध्यम से किसी का अपमान न हो। इस प्रकार संयमपूर्वक व्रत करने से व्रती को पुण्य फल प्राप्त होते हैं।

📖आचार्य अरुणा दाधीच जन्मपत्री विषेशज्ञ जयपुर 9983974145

Astrolok is one of the best astrology institute where you can learn vedic astrology, marriage astrology, nadi astrology,horoscope matching through live vedic astrology classes. It is a free platform to write astrology articles. Become a part of it by registering at https://www.astrolok.in/index.php/welcome/register

read more

When will I go Abroad ?? Are you also thinking this ???

Today we talk about foreign tour/ trip / travel -

Are you looking forward to go foreign or want to settle in foreign country ???

Let us know how to go overseas.

Today's time is the time when everyone wants to know that when the time will come and they will go to foreign tour in his or her life. When they will get this opportunity. This willing hunts their mind and fills smile on his or her face.

Now a days this is a burning topic in the world of astrology.

Your will get to know this by getting your chart analyzed by an astrologer.

When will your time come for this golden opportunity and escalate your future in the overseas .

In your horoscope, you will see your Ascendant (जन्म लग्न). This is the position of the planet at the time of your birth. In the chart, there are twelve houses. Each house represents the different sphere of life from birth to death.

As we want to know about the foreign trip so we will check only third house, sixth house, eighth house, eleventh house, and twelfth house.

One will have the opportunity to go overseas only when the 12th cuspal sublord will be in star of significator 3rd or 9th or 12th and also  signifies 11th cusp in the time of going to foreign tour in the dasha and sub period of it .

Astrolok is one of the best astrology institute where you can learn vedic astrology, marriage astrology, nadi astrology,horoscope matching through live vedic astrology classes. It is a free platform to write astrology articles. Become a part of it by registering at
https://www.astrolok.in/index.php/welcome/register




read more