• +(91) 7000106621
  • astrolok.vedic@gmail.com

Learn what’s best for you

Learn Jyotish
horoscopes

कुण्डलिनी जागरण आधुनिक तकनीक

पहले के समय मे कुण्डली जागृत करने के लिए वर्षो का समय लगता है। लेकिन आजकल आधुनिक तकनीक की मदद से एक दिन के वर्कशॉप में यह काम हो जाता है। कुण्डली जागरण की तकनीक सीखाना या फिर उसके लिए लोगो को प्रोत्साहित करना कोई गलत कार्य नही है। लेकिन लोगो को यह बताना कि यह काम कुछ दिनों में हो जाएगा, यह बेवकूफी है। ऐसे ही काम बहुत से गुरुजी और गुरुजीनि करते है। शक्तिपात करेंगे ये करेंगे वो करेंगे। आपको पता होना चाहिए कि अगर कुण्डली जागरण 2-3 दिनों या एक महीने में भी हो गया तो आप मर जाओगे या आपको शारीरिक मानसिक क्षति पहुँचेगी, क्योकि इतनी शक्ति आपका शरीर एक साथ नही संभाल सकता। इसके लिए पहले अपने शरीर को लायक बनाओ। फिर धीरे धीरे शक्ति बढ़ाओ और फिर वह समय आ जायेगा जब आप काफी शक्तिशाली बन जाओगे। कुण्डली जागरण के लिए शरीर, मन, आत्मा के साथ साथ कर्मो को भी बैलेंस करना होता है। मतलब अभी तक के पाप कर्मों के फल आपको भोगने है और सत्कर्मो के फल पाने है। जब यह हो जाये फिर ही आपकी साधना को शक्ति से मिला सकते है। ■ क्या है वास्तविक तरीके कुण्डली जागरण के किताबी तरीके क्या है यह मुझे पता नही। मैं अपने तरीके बता सकता हूँ। जिससे मैंने साधना की है। यह तरीके भी मैंने नही बनाये यह भी मैंने अघोरी ज्योतिष व तांत्रिको से सीखा है, उन्ही से ज्योतिष और कई तरह का ज्ञान लिया। लेकिन वह लोग न फेसबुक चलाते है न कोई इंस्टीट्यूट न ही किस मंदिर मठ में मिलेंगे। उनका अनिश्चित प्रवास रहता है। सबसे पहले अपनी कुंडली के सभी ग्रहों नक्षत्रों राशियों को साधना होती है। इनको साधने में लगभग 4 वर्ष लग जाते है। क्योंकि 12 ग्रह (आप 9 ग्रह से भी काम चला सकते है) इनको अगर 1-1 माह भी साधना से प्रसन्न करेंगे तो 1 वर्ष हो गया। फिर 27 या 28 नक्षत्र के हिसाब से करीब 2 साल से सवा 2 साल। इसके बाद राशियों की आवश्यकता होती है इसमें लगभग 18 हफ्ते से 6 महीने तक का वक्त लग सकता है। इन सबमे अगर आपकी कुंडली मे ग्रह अधिक खराब है तो आपको अधिक समय लगेगा। अगर अच्छे है तो दिए गए समय से आधे समय मे परिणाम दिखने लगते है। इस साधना में फायदा ही फायदा है, कुण्डली जागरण हो गयी तो उससे कई फायदे होते है। अगर पूर्ण रूप से जागृत नही भी हुई तो जीवन स्तर काफी ऊपर उठ जाता है और जीवन की सामान्य परेशानियां खत्म हो जाती है। ■ विशेष साधना कुण्डली जागरण साधना के साथ साथ आपको कुछ विशेष साधनाये करनी होती है। जैसे शक्ति संचय करने की साधना। यह साधना को आधुनिक भाषा मे समझे तो महाशक्ति उपयोग करने का पास या लाइसेंस होता है। शेष.... इसके लिए कुंडली विश्लेषण रिपोर्ट आदि के लिए संपर्क किया जा सकता है। ■■■■ If you are interested in writing articles related to astrology then do register at – https://astrolok.in/my-profile/register/ or contact at astrolok.vedic@gmail.com

comments

Leave a reply